बीत गया प्यारा बचपन

ममता से माँ ,पिता प्यार से सींचा करते थे तन मन ,

पता नहीं कब कैसे बीता नहीं भूलता वो बचपन |

माँ की आँखों का था तारा पिता का राजदुलारा था ,

मेरी आँखों में हो आंसू उनको नहीं गवारा था |

बड़े लाड़ से सुबह सबेरे अम्मा मुझे जगाती थी ,

मुन्ने राजा भोर हो गयी कह के मुझे उठाती  थी |

नींद भगाने को अँखिओं से गले से मुझे लगाती थी ,

ममता के कोमल हाथों को पीठ पे मेरे फिराती थी |

मेरी हर इक हँसी पर  माँ अंतर से मुस्काती थी ,

बाल सुलभ हर अदा पर  मेरी वारी वारी जाती थी |

मेरा हर पल सुख में बीते सौंप दिया था तन मन धन,

पता नहीं  चुपके से कैसे बीत गया प्यारा बचपन !

Advertisements

3 टिप्पणियाँ “बीत गया प्यारा बचपन” पर

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s