कुछ कुछ गाता हूँ

 

कवि हूँ कुछ कुछ गाता हूँकवि हूँ

नयन मूंद देखूँ चित्रों को

तथाकथित अपने मित्रों को

संबंधों को और सपनों को

कभी पराये कभी अपनों को

उलझन को सुलझाता हूँ

कवि हूँ कुछ कुछ गाता हूँ

करूँ कल्पना छवि मनोहर

गहरे पैठूँ प्रेम सरोवर

बिखरे पल अनमोल धरोहर

आलिंगन उस पार उतर कर

काँटों को सहलाता हूँ

कवि हूँ कुछ कुछ गाता हूँ

अपलक दृष्टि मौन अपूरित

विगलित विचलित कुंठित खंडित

त्याज्य भी लगने लगते वन्दित

ढाई आखर के जो पंडित

नहीं समझ मैं पाता हूँ

कवि हूँ कुछ कुछ गाता हूँ ……

सतरंगी डोर

 

थिरक उठा है मन का मोरसतरंगी डोर

सुरभित कानन ,चंचल समीर

उत्तुंग शिखर ,गंभीर धीर

हंसती प्रकृति नयनाभिराम

खग वृन्द सुनाते मधुर गान

नभ पर पसरी है धवल भोर

थिरक उठा है मन का मोर

नरम धूप है खिली खिली

अलसाई क्यारी में तितली

आवारा सी है रही घूम

फूलों का मुख है रही चूम

हर्षित पुलकित है पोर पोर

थिरक उठा है मन का मोर

बादल भी चलने लगे दांव

कहीं धूप है कहीं छाँव

झीनी झीनी बरसे फुहार

हैं रहे झूम ये देवदार

सतरंगी सी खिंच गयी डोर

थिरक उठा है मन का मोर …….

कई बार

 

कई बार दर्पण को देखाकई बार

कई बार कुछ गाया भी

कई बार झुठलाया सब कुछ

कई बार जतलाया भी

कई बार सब नाता छोड़ा

कई बार निभाया भी

कई बार गुब्बारा छीना

कई बार धमकाया भी

कई बार रूठा अपनों से

कई बार ठुकराया भी

कई बार की हँसी ठिठोली

कई बार बहलाया भी

कई बार जा बैठा गुमसुम

कई बार समझाया भी

कई बार उलझा प्रश्नों से

कई बार था पाया भी

कई बार था स्वांग रचा

कई बार ईठलाया भी

कई बार प्रस्फुटित हुआ

कई बार कुम्हलाया भी

कई बार सब भूल के देखा

कई बार अपनाया भी

कई बार बस डूब गया और

कई बार उतराया भी

कई बार सब पा कर खोया

कई बार सब पाया भी

कई बार जा कर के देखा

कई बार फिर आया भी

कई बार बस कई बार

बार बार फिर कई बार …

स्मृति अशेष

 

 

अन्तराल ये बहुत बड़ा था !

बिखरी स्याही फूटा दर्पणस्मृति अशेष

जगा मसान मृत्यु का नर्तन

माया ममता मोह ग्रसित मन

उड़ा पखेरू तोड़ के बंधन

स्मित रेखा क्षीण हो गयी

चिर निद्रा में लीन हो गयी

टूट तारिका तीन हो गयी

क्षण में मातृ विहीन हो गयी

कंटक में थी राह बनाती

पूर्वजन्म की वो थी थाती

शीत से लड़ती देख के बाती

शक्ति सौंप गयी जाती जाती

अनुजा थी गंभीर धीर

नयनों में देखा नहीं नीर

अंतर में धरती रही पीड़

पाने को जब थी सुधा क्षीर

देखा तो फूटा घड़ा पड़ा था

अंतराल ये बहुत बड़ा था !!!

 

अनुजा के असामयिक अवसान पर ;