कुछ जाने पहचाने


हाँ उन्हें मैं जानता हूँ

हर सुबह जिनके लिए कुछ नई आशाएँ हैं लाती

सांझ फिर उनको समेटे आश्वासन दे के जाती |

स्वप्न में साकार हो जाती हैं जिनकी योजनाएं ,

मचल उठती हैं हृदय में कई नई  संभावनाएं|

ग्रह-नक्षत्रों के घरों में खोजते हैं स्वयं को जो

राशिफल को देखने को जो उलटते पत्रिकाएं |

भाग्य देवी के पुजारी ,लग्न को तलाशते हैं

खोजते फिरते हैं उसको जो उन्हीं के पास में हैं |

देखता हूँ मैं कई को ,कई को पहचानता हूँ

हाँ उन्हें मैं जानता हूँ ,हाँ उन्हें मैं जानता हूँ |

Advertisements
diwyansh द्वारा कविता में प्रकाशित किया गया

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s